प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन पेंशन (PMSYM) योजना क्या है
प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन पेंशन योजना और रोजगार मंत्रालय ने असंगठित क्षेत्र के लिए एक मेगा पेंशन योजना, प्रधान मंत्री श्रम योगी मान-योजना (PMSYM) की शुरुआत की है। योजना की घोषणा अंतरिम बजट 2019 में की गई थी। श्रम मंत्रालय की एक अधिसूचना के अनुसार, भारत में असंगठित या अनौपचारिक क्षेत्र में काम करने वालों के लिए विशेष गारंटीकृत न्यूनतम पेंशन योजना 15 फरवरी 2019 से शुरू हो गयी है|



प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन पेंशन (PMSYM) योजना का उदेश्य
इस योजना का उद्देश्य उन लोगों को शामिल करना है जो घर पर काम करने वाले श्रमिकों, स्ट्रीट वेंडर, मिड-डे मील वर्कर, हेड लोडर, ईंट भट्ठा मजदूर, कोबलर, रैग पिकर, घरेलू कामगार, वॉशरमेन, रिक्शा चालक, भूमिहीन मजदूर, कृषि श्रमिक शामिल हैं। या जो निम्न परिवार से व्यक्ति आते हैं और 60 वर्ष के बाद उन्हें काफी आर्थिक स्थितियों का सामना करना पड़ता है क्योंकि वे इस उम्र में ठीक से काम नहीं कर पाते हैं क्योंकि उनका शरीर ठीक से साथ नहीं देता है इसलिए नरेन्द्र मोदी इस महत्वकांक्षी योजना 'प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन पेंशन योजना' (PMSYM) के तहत सहायता करना चाहती है.


प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन पेंशन योजना के लिए कौन है योग्य
  • असंगठित क्षेत्र के श्रमिक, जिनकी आय 15,000 रुपये प्रति माह से कम है और जो 18-40 वर्ष के आयु वर्ग के हैं, योजना के लिए पात्र होंगे।
  • उन श्रमिकों को नई पेंशन योजना (एनपीएस), कर्मचारी राज्य बीमा निगम (ईएसआईसी) योजना या कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) के तहत कवर नहीं किया जाना चाहिए।
  • उसे आयकर दाता नहीं होना चाहिए।
  • केवल 18 से 40 वर्ष की आयु के लोग ही इस योजना में शामिल हो सकते हैं।


प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन (PMSYM) योजना से लाभ लाभ:

न्यूनतम आश्रित पेंशन: इस योजना के तहत प्रत्येक ग्राहक को 60 वर्ष की आयु प्राप्त करने के बाद न्यूनतम रु। 3000 प्रतिमाह पेंशन प्राप्त होगी।

पेंशन प्राप्त करने के दौरान मृत्यु के मामले में: यदि पेंशन की प्राप्ति के दौरान ग्राहक की मृत्यु हो जाती है, तो उसके पति या पत्नी को पेंशन का 50 प्रतिशत पारिवारिक पेंशन के रूप में प्राप्त करने का हकदार होगा। यह पारिवारिक पेंशन केवल पति या पत्नी के लिए लागू होती है।

60 वर्ष की आयु से पहले मृत्यु के मामले में: यदि किसी लाभार्थी ने नियमित योगदान दिया है और 60 वर्ष की आयु प्राप्त करने से पहले मर जाता है, तो उसके पति या पत्नी नियमित रूप से योगदान के भुगतान के बाद इस योजना को जारी रखने के हकदार होंगे या बाहर भी निकल सकते हैं।


प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन (PMSYM) के आवेदन कैसे करे

प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए अभ्यर्थी को ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करना होगा. इसके लिए आपको नजदीकी वसुधा केंद्र जाना होगा और उसके बाद आप इस योजना का फॉर्म भरकर इस योजना को ले सकते हैं.


प्रधानमंत्री श्रम योजना के लिए ऑफलाइन अप्लाई

प्रधानमंत्री के इस कल्याणकारी योजना के लिए फ़िलहाल ऑफलाइन ही अप्लाई हो रहा है लेकिन इस योजना का फॉर्म जल्द ही ऑफलाइन भी भर सकते है इसके लिए सरकार कोई व्यवस्था लाने वाली है.

दोस्तों, आपको 'प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना के बारे में कोई सवाल है तो आप कमेंट के द्वारा पूछ सकते हैं मैं आपको जरुर रिप्लाई करूँगा. धन्यवाद